सोमवार, 2 अगस्त 2010

आई आई टी इंटरव्यू (दूसरी कड़ी) - मैं और मेरी अंग्रेजी

आपने सुना तो होगा ही "अंग्रेज चले गए और अंग्रेजी छोड़ गए", सही है यार बहुत तंग करती है ये अंग्रेजी मुझे, एक मस्त वाकया हुआ मेरे साथ इस अंग्रेजी के वजह से और वो भी बहुत महत्त्वपूर्ण समय पर-

तो कहानी शुरु होती है पिछली कहानी से आगे, मैं आई आई टी में बैठे हुए, इंटरव्यू के लिए अपने बुलावे का इन्तजार कर रहा था, आखिर मेरा नंबर आ गया, देखता हूँ कि इंटरव्यू लेने के लिए कुल सात लोग बैठे हुए हैं, एक तो वैसे ही पिछली घटना से थोडा सा नर्वस था और ऊपर से इंटरव्यू में सात लोग, वैसे एक बात मेरे पक्ष में थी कि आज तक के मेरे रिकॉर्ड में मेरा इंटरव्यू कभी ख़राब नहीं गया था, तो में आश्वस्त था |

इंटरव्यू पेनल ने मुझे एक पेपर दिया और बोले कि इस पर लिख दीजिये कि वो कौन सी चीज़ है जो आपको "Educational Technology" में कार्य करने के लिए प्रेरित करती है, मुझे १० मिनट का समय दिया गया सो में पेपर और पेन लेकर बैठ गया लिखने और जो कुछ मैंने लिखा वो कुछ इस प्रकार था
Recently I created a video book of C programming language for engineering students. At the time of creating that book I never think about it's effectiveness, but after it launched students like it and it's extremely beneficial for them. 
This comes me to an idea that by creating such kind of video books we can solve the problem of education in India. In villages & towns where teachers are almost zero, this idea can work better and after that I contact with many teachers and tell them the process of creating the video tutorials. But what I find is most of the teachers are unaware of technology and can't create Video Book. 
After that I research for the tools that can help teachers, after all I can't create video tutorial for each subject. During research on tools I realize that a Geek person can not use these tools, because they are very heavy to use. There should be some tools available for geek persons so that they can use it with ease and effectiveness. These tools should be the mixture of technology as well as concept of education. That creates interest about Educational Technology.
After or during my Ph.D I want to create tools for geeks so that the problem of education in India can be solved.

यह लिखने के बाद मैंने इंटरव्यू पेनल को दिया, सभी ने पढ़ा और मन ही मन हँसे, फिर कुछ सबाल पूछे जैसे कि -
  • M.TECH. में क्या project था? 
  • जहाँ job कर रहे थे वहां किस technology पर कार्य किया? 
  • family background कैसा है? 
  • अच्छी खासी job छोड़ कर यहाँ क्यूँ आना चाहते हो? 
  • कितने साल और नहीं कमाओगे तो भी चलेगा? वगैरह वगैरह
सब कुछ अच्छा चल रहा था, और अभी तक कोई भी परेशानी नहीं आयी थी, पर ये तो होना ही था सो हो गया, सबसे आखिर में मुझसे पूछा गया कि आपने अपने statement of purpose (जो मैंने ऊपर इंग्लिश में प्रकाशित किया है) में कई बार GEEK शब्द का प्रयोग किया है, इसका अर्थ क्या होता है? 

"मैंने कहा कि इसका अर्थ है वह व्यक्ति को कि technology से अनभिज्ञ हो, उसको उसका इस्तेमाल नहीं आता हो", तब मुझे बताया गया कि इसका अर्थ इसके बिलकुल विपरीत होता है अर्थात वह व्यक्ति जो technology के बारे में लगभग हर चीज़ जानता है वह GEEK होता है, फिर क्या मैं भी हँसा और पूरा इंटरव्यू पेनल भी |

आप ही बताइए कि क्या करूं में मेरी अंगरेजी का? Simple batra जी से थोड़े से टिप्स लिए थे पर जरा भारी हैं, मैं उनको प्रयोग में नहीं ला सकता आपके पास कुछ हो तो जरूर बताइए, पर याद रखिये आप अंगरेजी में GEEK होने चाहिए :)

इस इंटरव्यू का परिणाम क्या रहा बाद में बताता हूँ -

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मेरी पिछली कुछ टिप्पणियों में आप ओपन पत्रिका के बारे में पढ़ रहे होंगे, आपसे गुजारिश है कि ओपन पत्रिका में अपना बहुमूल्य योगदान जरूर दें, पूरे महीने में यदि आप एक लेख भी लिख सकते हैं तो भी हम क्रांति ला सकते हैं, आप कुछ और नहीं कर सकते तो काम से काम इतना तो कर ही सकते हैं कि अपने हर लेख में यह जानकारी शामिल कर दें जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक यह जानकारी पहुंचे और हम बेहतर परिणाम ला सकें - धन्यवाद |

7 टिप्‍पणियां:

  1. भैया अंगरेजी ऐसी ही है -आपके इंटरव्यू वाले तो सज्जन दिखे...मिल गयी नौकरी ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. @Arvind mishra: Sir you didn't read my previous post, this interview was not for JOB but for the admission in Ph.D.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
    चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
    या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
    http://blogworld-rajeev.blogspot.com
    SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. sabse pehle aapko india ke aetihashik jit ke lie badhai dena chahti hu...aapke post ko padha padh ke bahut maza aaya....jis tarh aapne apne baato ko prastut kia hai kabile tarif...

    उत्तर देंहटाएं