रविवार, 13 फ़रवरी 2011

विद्यार्थियों के लिए: आपकी खुशकिस्मत, सोच और आत्महत्या

माना कि आज वेलेंटाइन है और कुछ समय बाद होली आने बाली है पर एक और मौसम जोरो पर है और वो मौसम है परीक्षाओं का जी हाँ किसी हाईस्कूल या इंटरमीडिएट के विद्यार्थी से जाकर पूछिए तो वो आपको यही बताएगा|

हर साल विद्यार्थोयों के द्वारा की जाने वाली आत्महत्या के किस्से सुन कर मुझे बहुत बुरा लगता है तो मैं एक सीरीज लिखने जा रहा हूँ खास तौर से उन विद्यार्थियों के लिए जो इस बर्ष बोर्ड की परीक्षाओं में बैठने जा रहे हैं और यह लेख इस सीरीज का पहला लेख है -

प्रिय विद्यार्थी,

सबसे पहले आपको मेरा नमस्कार क्यूंकि आप एक ऐसे रथ पर सवार हैं जिसकी तुलना किसी अन्य रथ से नहीं की जा सकती आप विद्या के रथ पर सवार हैं, यकीन मानिए आप बहुत खुशकिस्मत हैं जो आप इस रथ पर सवार हैं, यदि आपको यकीन नहीं होता तो आपको नीचे कुछ तसवीरें दे रहा हूँ, शायद आपको अंदाजा हो कि आपको विद्या के रूप में क्या मिल रहा है


 आप और चित्र भी देख सकते हैं यहाँ पर 

मुझे उम्मीद है कि आपको यह अंदाजा हो गया होगा कि आप कितने भाग्यशाली हैं, आप इस समय जिस रथ पर सवार हैं वह आपको एक ऐसी दिशा में ले जायेगा जहाँ पहुँच कर आप हर वो कार्य कर सकते हैं जिसके बारे में आप आज सिर्फ सोच सकते हैं, आप अपने सपने पूरे कर सकते हैं, आप दूसरों को सहारा दे सकते हैं, आप इस देश को सुधार सकते हैं और आप चाहें तो इन बच्चों के लिए भी बहुत कुछ कर सकते हैं, पर कब? जब आप विद्या का आदर करें, विद्या का आदर करने से मेरा अर्थ सुबह शाम पूजा किताबों की पूजा करना नहीं, बल्कि विद्या ग्रहण करने से है |

बड़े दुःख के साथ यह कहना पड़ रहा है कि आप मैं से कुछ विद्यार्थी विद्या की इज्जत नहीं करते और पढाई को सिर्फ पेपर पास करने से ही देखते हैं, पूरे बर्ष नहीं पढते सिर्फ अंतिम समय में किताबों में झांकते हैं और सिर्फ महत्वपूर्ण प्रश्नों को तोते की तरह रटने में लग जाते हैं | कुछ तो इससे भी आगे निकल जाते हैं वो नक़ल करने के तरीके निकालते हैं और नक़ल करने की सफल या असफल कोशिश कर विद्या का अपमान करते हैं | 

सबसे बड़ी गलती तो कोई भी विद्यार्थी तब करता है जब परीक्षा में फेल होने पर वह आत्महत्या जैसा कदम उठाता है, क्या आपको पता है आत्महत्या करने से पहले ना पढ़ कर तो आप सिर्फ अपना नुकसान ही कर रहे थे, पर आत्महत्या करने के बाद तो आप अपने परिवार, खास तौर से अपने माता-पिता, बहन-भाई का कितना बड़ा नुकसान करते हैं ?

क्या आपको पता है कि उनके मन पर क्या गुजरती है जब आप उनकी जिंदगी से चले जाते हैं? 

याद रखिये कि आप जिस समाज में रहते हैं उस समाज ने आपके लिए बहुत कुछ किया है और जब तक आप इस दुनिया में रहते हैं तब तक आपके लिए कुछ न कुछ करता ही रहता है फिर क्यूँ आप अपनी जिम्मेदारी निभाए बिना इस दुनिया से चले जाना चाहते हैं ? सिर्फ इसलिए कि आप किसी परीक्षा में फेल हो गए हैं?

"असफलता ही सफलता की सबसे बड़ी कुंजी है" यह ब्रह्मवाक्य याद रखिये, आप असफल हुए हैं क्यूंकि आपने अपना पूरा जोर नहीं लगाया और असफल होने के पीछे आपकी गलती है, अपनी गलती को मानिये और दुबारा श्रम में जुट जाइये लगा दीजिए अपनी पूरी जान इस बार, और सभी ताने देने बालों का मुंह बंद कर दीजिए | 

यह तजुर्बा आपको असफलता को झेलने की ताकत देगा और आपको एक अच्छा नागरिक बनाएगा, याद रखिये कि यह जीवन सिर्फ आपका नहीं है, आपके माता-पिता का इस शरीर पर पहला हक है और आत्महत्या कर के आप उनका यह हक छीन रहे हैं, खुद पर नहीं तो कम से कम अपने माँ-बाप पर दया कीजिये और इस कदम को मत उठाइए |

एक कविता की पंक्तियाँ (स्व. श्री हरिवंश राय बच्चन जी की लिखी हुई) याद आ रही हैं मैं चाहूँगा कि आप जरूर पढ़ें -

लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।




अगले लेख में मैं आपको परीक्षा में अलग-अलग रंगों के पेन के प्रयोग के बारे में जानकारी दूंगा - 

4 टिप्‍पणियां:

  1. पाल साहब आप बलॉगिंग को सार्थक मुकाम दे रहें है, आपका प्रयास प्रशंसनीय है। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सटीक, सम सामयिक और गहरे प्रेरित करने वाले इस आलेख के लिए आपको असंख्य धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं