रविवार, 9 मई 2010

बदमाश कंपनी

 निर्देशक : परमीत सेठी
कलाकार : शाहिद कपूर, अनुष्का शर्मा, वीर दास, मियांग चांग, अनुपम खेर, पवन मल्होत्रा
फिल्म के बारे में : ठीक ठाक ( २ स्टार )

कहानी : 4 दोस्त हैं, 3 लड़के और एक लड़की, चारों को जल्दी है, अमीर बनने की.
करण (शाहिद कपूर) MBA नहीं करना चाहता, MBA करने के बाद JOB करनी पड़ेगी, सुबह 9:00 से 5:00 की JOB पसंद नहीं है | बिज़नस करना चाहता है, चंदू (वीर दास) को लड़कियों और फिल्मो का शौक है, जिंग (चांग) को शराब का शौक है और बुलबुल (अनुष्का) को मोडलिंग का |
शौक पूरा करने के लिए पैसा चाहिए, पैसा कैसे आएगा? स्मगलिंग से, ये लोग drugs की स्मगलिंग नहीं करते, Dollars की स्मग्लिंग करते हैं, खैर पैसा आता है, शौक पूरे होते है, लत बढ़ती जाती है, अब पैसा कमाने के लिए कपूर खुद नए-नए आईडिया बनता है और रुपये कमाता है. अब जब पैसा आएगा तो दिमाग भी ख़राब होंगे, चारोँ दोस्तों में लड़ाई हो जाती है, और सभी कपूर को छोड़ के चले जाते हैं, बिज़नस ख़त्म, पैसा ख़त्म, अब शुरु होते हैं बुरे दिन, पुलिस 420 के केस में कपूर को अन्दर करती है |
घटनाएं होती हैं, और अंत में सभी लोग मिल जाते हैं, बुरे दिन सुधर जाते है |

क्यूँ देखें : अगर आपको ठगी के नए नए आईडिया चाहिए तो |
क्यूँ ना देखें : फिल्म का दूसरा हिस्सा बहुत लम्बा कर दिया गया है, emotional scene पर हँसी आती है | ओवर एक्टिंग बहुत ज्यादा है, संवाद और घटनाएं एक दूसरे से गुंथी हुई नहीं है

6 टिप्‍पणियां:

  1. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. वैसे फिल्म मुझे तो अच्छी लगी एक अच्छे सन्देश वाली फिल्म

    उत्तर देंहटाएं
  4. @Yugal Mehra : अपना कमेन्ट देने के लिए शुक्रिया, फिल्म देखने का अपना-अपना नजरिया होता है. मुझे ख़ुशी है आपने अपनी बात कही. आगे भी आते जाते रहिये - ख़ुशी होगी |

    उत्तर देंहटाएं
  5. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  6. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा या प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    उत्तर देंहटाएं